३ थिINGS

थ्री थिंग्स एक ऐसा शो है, जिसमें हम आपसे जुड़े मुद्दों को आसान तरीके से समझाने की कोशिश करेंगे। इसमें हम किसी बड़ी खबर के 3 अहम पहलुओं को छुएंगे या फिर आपको बताएंगे दिन की तीन बड़ी खबरें।

Episode 56 January 17, 2019

सियासी किस्सा: जब मायावती ने कमरे में बंद होकर बचाई थी जान

समाजवादी पार्टी के नेता ने बीएसपी के साथ गठबंधन को बनाए के लिए हर संभव कोशिश कर रहे थे.2 जून की शाम को समाजवादी पार्टी के एमएलए और जिला स्तर के नेता लखनऊ गेस्ट हाउस जा पहुंचे.जहां मायावती, कांशीराम अपने सहयोगी नेताओं के साथ गेस्ट हाउस में इस बात पर चर्चा कर रहे थे की पार्टी का अगला कदम क्या होना चाहिए.लेकिन उसी समय वहां जो कुछ भी हुआ उसे ही आज लोग गेस्ट हाउस कांड के नाम से जानते हैं.समाजवादी पार्टी के विधायकों और कार्यकर्ताओं ने गेस्ट हाउस को घेर लिया और वहां बवाल काटना शुरु कर दिया. उन्होंने बीएसपी के कई नेताओं को धोखा देने का आरोप लगाते हुए बंधक बना लिया. मायवती को अपनी जान बचाने के लिए खुद को कमरे में कैद करना पड़ा. इतना बवाल देखकर बीएसपी के नेता भी डरकर भागने लगे.गुस्साए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मायावती पर हमला करने के लिए बंद दरवाजे पर जमा हो गए.सपा कार्यकर्ताओं ने टेलीफोन लाइन और बिजली की लाइनें भी काट दी थी और लाठियों से बीएसपी के विधायकों को पीटना शुरु कर दिया था.अपराधी प्रवृति वाले 300 कार्यकर्ताओं के साथ दर्जन भर से ज्यादा समाजवादी पार्टी के नेताओं ने इस घटना को अंजाम दिया था.

सियासी किस्सा: जब मायावती ने कमरे में बंद होकर बचाई थी जानसमाजवादी पार्टी के नेता ने बीएसपी के साथ गठबंधन को बनाए के लिए हर संभव कोशिश कर रहे थे.2 जून की शाम को समाजवादी पार्टी के एमएलए और जिला स्तर के नेता लखनऊ गेस्ट हाउस जा पहुंचे.जहां मायावती, कांशीराम अपने सहयोगी नेताओं के साथ गेस्ट हाउस में इस बात पर चर्चा कर रहे थे की पार्टी का अगला कदम क्या होना चाहिए.लेकिन उसी समय वहां जो कुछ भी हुआ उसे ही आज लोग गेस्ट हाउस कांड के नाम से जानते हैं.समाजवादी पार्टी के विधायकों और कार्यकर्ताओं ने गेस्ट हाउस को घेर लिया और वहां बवाल काटना शुरु कर दिया. उन्होंने बीएसपी के कई नेताओं को धोखा देने का आरोप लगाते हुए बंधक बना लिया. मायवती को अपनी जान बचाने के लिए खुद को कमरे में कैद करना पड़ा. इतना बवाल देखकर बीएसपी के नेता भी डरकर भागने लगे.गुस्साए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मायावती पर हमला करने के लिए बंद दरवाजे पर जमा हो गए.सपा कार्यकर्ताओं ने टेलीफोन लाइन और बिजली की लाइनें भी काट दी थी और लाठियों से बीएसपी के विधायकों को पीटना शुरु कर दिया था.अपराधी प्रवृति वाले 300 कार्यकर्ताओं के साथ दर्जन भर से ज्यादा समाजवादी पार्टी के नेताओं ने इस घटना को अंजाम दिया था.