Village tense after Adityanath’s outfit enters land row, ‘150 Muslim families leave homes’

Heavy police force including PAC personnel have been deployed in the village to prevent any disturbance.

Written by Mohd Faisal Fareed | Lucknow | Published:February 25, 2015 2:12 am
Yogi Adityanath, Adityanath land row, Adityanath muslims land row, BJP MP Yogi Adityanath, Uttar Pradesh news, India news, nation news A locked gate at the house of a Muslim resident that was abandoned in UP’s Kushinagar district. (Source: Express photo)

Tension prevailed in Madhopur village in Uttar Pradesh’s Kushinagar district after 150 Muslim families reportedly left their homes Monday, fearing a backlash from BJP MP Yogi Adityanath’s outfit Hindu Yuva Vahini (HYV) over a land dispute. Heavy police force including PAC personnel have been deployed in the village to prevent any disturbance.

Kushinagar additional district magistrate Ram Kewal Tiwari admitted that there is tension in the village. “It is a property dispute. There was a minor clash and we deployed PAC. HYV is active in this region and they often hold meetings, but we handle the situation,” Tiwari claimed. He, however, denied that Muslims have left the village.

HYV held a meeting at Madhopur on Monday to show solidarity with the village’s Hindus following a property dispute. The outfit has reportedly given call for a Hindu mahapanchayat on March 3 if its demand of handing over possession of a 1.5-acre disputed plot to a Hindu villager is not met.

“We had gone there to show solidarity with our worker Digvijay Kishore Shahi who was assaulted by a Muslim when he resisted their move to grab his land. Since the Muslims have done wrong, they have fled. We are not responsible,” Sunil Singh, state president of HYV said.

He added: “Digvijay owns that land. The district administration admitted it but refused to hand him the possession before Holi claiming that communal atmosphere will be vitiated. We cannot wait for that long. On March 3, we will hold a Hindu mahapanchayat”.

Locals said the issue erupted following a land dispute between Digvijay Kishore Shahi and another villager Ameen. The 1.5 acre plot belonging to the gram panchayat is close to the village and both groups are staking claim to it.

On February 13, a clash broke out between the two groups. Muslims claimed that nearly 1,000 HYV workers attacked them. The district administration deployed PAC and a case was registered on Shahi’s complaint. Two Muslim men were arrested.

“We continued to stay in our village after the incident. But, HYV announced a big meeting on February 23. We sought help of local administration but no one came forward,” Aurangzeb (22) said.

Social worker Mohammad Anwar Siddiqui said: “Police told villagers told to leave the village before the HYV.”

Aurangzeb said Muslims left the village on February 22 to avoid confrontations. He added that the HYV meeting was attended by nearly 1,500 workers, including state president Sunil Singh. Provocative speeches were delivered during the meeting.
The Muslims are yet to return home, he claimed.

For all the latest India News, download Indian Express App now

  1. a
    asad khan.
    Mar 21, 2017 at 8:08 am
    when you are going to choose leader who is mentally sick and illitrate such events will happen. Be sure until he is there such events will be daily routine
    Reply
    1. S
      santosh satpathy
      Feb 25, 2015 at 5:22 pm
      This is today's quota story. One story a day from Indian express the of so-called hindu fringe elements irrespective of relevance.
      Reply
      1. C
        changingtimes
        Feb 25, 2015 at 2:00 pm
        I just wonder where were these cowards hiding under UPA rule? We never heard of "ghar wapsi" and attack on churches when BJP was not in power. Suddenly termite has come out of the wooden because they know police and law is on their side. This is cowardliness, they dont have guts to fight if law and police is not on their side..
        Reply
        1. C
          changingtimes
          Feb 25, 2015 at 1:54 pm
          I just wonder where were these cowards hiding under UPA rule? We never heard of "ghar wapsi" and attack on churches when BJP was not in power. Suddenly termite has come out of the wooden because they know police and law is on their side. This is cowardliness, they dont have guts to fight if law and police is not on their side..
          Reply
          1. A
            Abdullah Joypuri
            Feb 25, 2015 at 11:25 am
            BJP and its supporters are doing all misdeeds in the name of religion. The Law and & administration agencies are also supporting them. India is for Hindus The Indian minorities should be careful.
            Reply
            1. H
              HL
              Feb 25, 2015 at 7:40 pm
              arfan bhai, tum jaise brainwashed budhdhu kaafi ho India ko barbaadh karne ke liye aur outside forces ki zaroorat bhi nahin.. iss article mein kuch facts hi nahin hain bas hindu logon ko badnaam karke apne paise kamaane wale log hain in Indian Express wale..
              Reply
              1. H
                HL
                Feb 25, 2015 at 7:53 pm
                yeah exactly.. these people know only living in donations and raising offsprings.. contribution toh kuch nahin hain in saalon ki..
                Reply
                1. H
                  HL
                  Feb 25, 2015 at 7:55 pm
                  what a poor reporting from IE, what is background, who started this quarrel, who is more hared, who is following peaceful way.. blah blah blah.. IE just using bull$hit methods to attract readers to this pathetic article..
                  Reply
                  1. H
                    HL
                    Feb 25, 2015 at 7:51 pm
                    why Syria and Iraq?.. just go through last 10 years of Indian history you will come to know who are real terrorists..
                    Reply
                    1. S
                      saiyyad vashim
                      Feb 25, 2015 at 2:52 pm
                      yogi se puchhna chahta huघर में रहते हुए घर वापसी का क्या अर्थ है? ******************************************** भारत में प्राचीन काल से ही अनेक धर्म और सम्प्रदायों के लोग मिलजुल कर रहते आए हैं। मुसलमान चाहे शिया सुन्नी आदि सम्प्रदायों में बंटे हों लेकिन उनमें ख़ुदा को एक मानने और उसी की उपासना करने की समानता होने के कारण उनकी एक अलग पहचान है। हिन्दुओं की अगर बात करें तो वहां अद्वैतवाद भी मिलेगा और बहुदेववादी भी होंगे, ईश्वर को निराकार मानने वाले भी होंगे और साकार रूप के उपासक भी होंगे। इसी प्रकार से शैव वैष्णव आदि अनेक सम्प्रदाय भी होने के साथ इष्टदेव की भिन्नता के कारण अस्थानुसार मन्दिर भी अलग अलग हैं। इसके अतिरिक्त एक विशेष बात यह भी है कि एक ही मन्दिर में कई देवों की मूर्तियाँ भी होती हैं। कुछ ऐसे महापुरुषों की मूर्तियाँ स्थापित करके उनके मन्दिर भी बनाए जाते हैं, जिनको भगवान का रूप दिया गया हो जैसे साईं बाबा आदि। इन सब के अलावा जो नास्तिक हैं वह भी हिन्दू कहलाते हैं। -------------------------------------------------------------------------------------------- इन बातों पर ग़ौर करने से यह तो कहा ही जा सकता है कि हिन्दू समाज में आस्था के प्रति उदारता चरम सीमा पर है। -------------------------------------------------------------------------------------------- इस सब के कहने का मक़सद यह है कि जब अलग अलग इष्टदेवों के नामों से मन्दिर या उपसना स्थल बनाये हुए हैं ताकि अपनी आस्थानुसार भक्तजन अपने विशेष मन्दिर में पूजा या उपासना के लिए जा सकें तो फिर क्या कारण है कि मुसलमानों के अपने उपासना स्थल में जाने पर ऐतराज़ किया जाता है? जिस प्रकार शिव मन्दिर, हनुमान मन्दिर आदि होते हैं और उनमें भक्तजन उपासना करते हैं क्या उसी प्रकार मुसलमानों को अपने इष्टदेव या अल्लाह की उपासना के लिए अल्लाह के मन्दिर (मस्जिद) में जाने का अधिकार नहीं है? इसी प्रकार यह कहा जा सकता है कि धार्मिक और साम्प्रदायिक उदारता का परिचय देते हुए जब हिन्दू आपस में एक दूसरे पर ऐतराज़ नहीं करते कि तुम्हारा इष्टदेव मेरे इष्टदेव से भिन्न क्यों है और तुम अमुक मन्दिर में क्यों जाते हो तो मुसलमानो को भी उसी श्रेणी में रखने में क्या आपत्ति है और मुसलामानों की बात आने पर वह उदारता कहाँ चली जाती है? और यह क्यों नहीं कहा जाता कि जैसे हम अपनी आस्थानुसार अपनी पसन्द के मन्दिर में जाते हैं उसी प्रकार मुसलमान भी अपनी अस्थानुसार अल्लाह के मन्दिर में जा रहे हैं। इस प्रकार से जब भारत रूपी यह घर सबका और बराबर अधिकार का है और इस घर ही में सब लोग मौजूद हैं और कोई बाहर भी नहीं गया है तो फिर घर वापसी जैसी आधारहीन और मूर्खतापूर्ण बात का कोई औचित्य नहीं रहा जाता।
                      Reply
                      1. A
                        Amit Verma
                        Feb 26, 2015 at 3:29 pm
                        हमारे प्राचीन महादेश का नाम “भारतवर्ष” कैसे पड़ा....????? साथ ही क्या आप जानते हैं कि....... हमारे प्राचीन हमारे महादेश का नाम ....."जम्बूदीप" था....????? परन्तु..... क्या आप सच में जानते हैं जानते हैं कि..... हमारे महादेश को ""जम्बूदीप"" क्यों कहा जाता है ... और, इसका मतलब क्या होता है .....?????? दरअसल..... हमारे लिए यह जानना बहुत ही आवश्यक है कि ...... भारतवर्ष का नाम भारतवर्ष कैसे पड़ा.........???? क्योंकि.... एक सामान्य जनधारणा है कि ........महाभारत एक कुरूवंश में राजा दुष्यंत और उनकी पत्नी शकुंतला के प्रतापी पुत्र ......... भरत के नाम पर इस देश का नाम "भारतवर्ष" पड़ा...... परन्तु इसका साक्ष्य उपलब्ध नहीं है...! लेकिन........ वहीँ हमारे पुराण इससे अलग कुछ अलग बात...... पूरे साक्ष्य के साथ प्रस्तुत करता है......। आश्चर्यजनक रूप से......... इस ओर कभी हमारा ध्यान नही गया..........जबकि पुराणों में इतिहास ढूंढ़कर........ अपने इतिहास के साथ और अपने आगत के साथ न्याय करना हमारे लिए बहुत ही आवश्यक था....। परन्तु , क्या आपने कभी इस बात को सोचा है कि...... जब आज के वैज्ञानिक भी इस बात को मानते हैं कि........ प्राचीन काल में साथ भूभागों में अर्थात .......महाद्वीपों में भूमण्डल को बांटा गया था....। लेकिन ये सात महाद्वीप किसने और क्यों तथा कब बनाए गये.... इस पर कभी, किसी ने कुछ भी नहीं कहा ....। अथवा .....दूसरे शब्दों में कह सकता हूँ कि...... जान बूझकर .... इस से सम्बंधित अनुसंधान की दिशा मोड़ दी गयी......। परन्तु ... हमारा ""जम्बूदीप नाम "" खुद में ही सारी कहानी कह जाता है ..... जिसका अर्थ होता है ..... समग्र द्वीप . इसीलिए.... हमारे प्राचीनतम धर्म ग्रंथों तथा... विभिन्न अवतारों में.... सिर्फ "जम्बूद्वीप" का ही उल्लेख है.... क्योंकि.... उस समय सिर्फ एक ही द्वीप था... साथ ही हमारा वायु पुराण ........ इस से सम्बंधित पूरी बात एवं उसका साक्ष्य हमारे सामने पेश करता है.....। वायु पुराण के अनुसार........ त्रेता युग के प्रारंभ में ....... स्वयम्भुव मनु के पौत्र और प्रियव्रत के पुत्र ने........ इस भरत खंड को बसाया था.....। चूँकि महाराज प्रियव्रत को अपना कोई पुत्र नही था......... इसलिए , उन्होंने अपनी पुत्री के पुत्र अग्नीन्ध्र को गोद ले लिया था....... जिसका लड़का नाभि था.....! नाभि की एक पत्नी मेरू देवी से जो पुत्र पैदा हुआ उसका नाम........ ऋषभ था..... और, इसी ऋषभ के पुत्र भरत थे ...... तथा .. इन्ही भरत के नाम पर इस देश का नाम...... "भारतवर्ष" पड़ा....। उस समय के राजा प्रियव्रत ने ....... अपनी कन्या के दस पुत्रों में से सात पुत्रों को......... संपूर्ण पृथ्वी के सातों महाद्वीपों के अलग-अलग राजा नियुक्त किया था....। राजा का अर्थ उस समय........ धर्म, और न्यायशील राज्य के संस्थापक से लिया जाता था.......। इस तरह ......राजा प्रियव्रत ने जम्बू द्वीप का शासक .....अग्नीन्ध्र को बनाया था। इसके बाद ....... राजा भरत ने जो अपना राज्य अपने पुत्र को दिया..... और, वही " भारतवर्ष" कहलाया.........। ध्यान रखें कि..... भारतवर्ष का अर्थ है....... राजा भरत का क्षेत्र...... और इन्ही राजा भरत के पुत्र का नाम ......सुमति था....। इस विषय में हमारा वायु पुराण कहता है....— सप्तद्वीपपरिक्रान्तं जम्बूदीपं निबोधत। अग्नीध्रं ज्येष्ठदायादं कन्यापुत्रं महाबलम।। प्रियव्रतोअभ्यषिञ्चतं जम्बूद्वीपेश्वरं नृपम्।। तस्य पुत्रा बभूवुर्हि प्रजापतिसमौजस:। ज्येष्ठो नाभिरिति ख्यातस्तस्य किम्पुरूषोअनुज:।। नाभेर्हि सर्गं वक्ष्यामि हिमाह्व तन्निबोधत। (वायु 31-37, 38) मैं अपनी बात को प्रमाणित करने के लिए..... रोजमर्रा के कामों की ओर आपका ध्यान दिलाना चाहूँगा कि..... हम अपने घरों में अब भी कोई याज्ञिक कार्य कराते हैं ....... तो, उसमें सबसे पहले पंडित जी.... संकल्प करवाते हैं...। हालाँकि..... हम सभी उस संकल्प मंत्र को बहुत हल्के में लेते हैं... और, उसे पंडित जी की एक धार्मिक अनुष्ठान की एक क्रिया मात्र ...... मानकर छोड़ देते हैं......। परन्तु.... यदि आप संकल्प के उस मंत्र को ध्यान से सुनेंगे तो.....उस संकल्प मंत्र में हमें वायु पुराण की इस साक्षी के समर्थन में बहुत कुछ मिल जाता है......। संकल्प मंत्र में यह स्पष्ट उल्लेख आता है कि........ -जम्बू द्वीपे भारतखंडे आर्याव्रत देशांतर्गते….। संकल्प के ये शब्द ध्यान देने योग्य हैं..... क्योंकि, इनमें जम्बूद्वीप आज के यूरेशिया के लिए प्रयुक्त किया गया है.....। इस जम्बू द्वीप में....... भारत खण्ड अर्थात भरत का क्षेत्र अर्थात..... ‘भारतवर्ष’ स्थित है......जो कि आर्याव्रत कहलाता है....। इस संकल्प के छोटे से मंत्र के द्वारा....... हम अपने गौरवमयी अतीत के गौरवमयी इतिहास का व्याख्यान कर डालते हैं......। परन्तु ....अब एक बड़ा प्रश्न आता है कि ...... जब सच्चाई ऐसी है तो..... फिर शकुंतला और दुष्यंत के पुत्र भरत से.... इस देश का नाम क्यों जोड़ा जाता है....? इस सम्बन्ध में ज्यादा कुछ कहने के स्थान पर सिर्फ इतना ही कहना उचित होगा कि ...... शकुंतला, दुष्यंत के पुत्र भरत से ......इस देश के नाम की उत्पत्ति का प्रकरण जोडऩा ....... शायद नामों के समानता का परिणाम हो सकता है.... अथवा , हम हिन्दुओं में अपने धार्मिक ग्रंथों के प्रति उदासीनता के कारण ऐसा हो गया होगा... । परन्तु..... जब हमारे पास ... वायु पुराण और मन्त्रों के रूप में लाखों साल पुराने साक्ष्य मौजूद है .........और, आज का आधुनिक विज्ञान भी यह मान रहा है कि..... धरती पर मनुष्य का आगमन करोड़ों साल पूर्व हो चुका था, तो हम पांच हजार साल पुरानी किसी कहानी पर क्यों विश्वास करें....????? सिर्फ इतना ही नहीं...... हमारे संकल्प मंत्र में.... पंडित जी हमें सृष्टि सम्वत के विषय में भी बताते हैं कि........ अभी एक अरब 96 करोड़ आठ लाख तिरेपन हजार एक सौ तेरहवां वर्ष चल रहा है......। फिर यह बात तो खुद में ही हास्यास्पद है कि.... एक तरफ तो हम बात ........एक अरब 96 करोड़ आठ लाख तिरेपन हजार एक सौ तेरह पुरानी करते हैं ......... परन्तु, अपना इतिहास पश्चिम के लेखकों की कलम से केवल पांच हजार साल पुराना पढ़ते और मानते हैं....! आप खुद ही सोचें कि....यह आत्मप्रवंचना के अतिरिक्त और क्या है........????? इसीलिए ...... जब इतिहास के लिए हमारे पास एक से एक बढ़कर साक्षी हो और प्रमाण ..... पूर्ण तर्क के साथ उपलब्ध हों ..........तो फिर , उन साक्षियों, प्रमाणों और तर्कों केआधार पर अपना अतीत अपने आप खंगालना हमारी जिम्मेदारी बनती है.........। हमारे देश के बारे में .........वायु पुराण का ये श्लोक उल्लेखित है.....—-हिमालयं दक्षिणं वर्षं भरताय न्यवेदयत्।तस्मात्तद्भारतं वर्ष तस्य नाम्ना बिदुर्बुधा:.....।। यहाँ हमारा वायु पुराण साफ साफ कह रहा है कि ......... हिमालय पर्वत से दक्षिण का वर्ष अर्थात क्षेत्र भारतवर्ष है.....। इसीलिए हमें यह कहने में कोई हिचक नहीं होनी चाहिए कि......हमने शकुंतला और दुष्यंत पुत्र भरत के साथ अपने देश के नाम की उत्पत्ति को जोड़कर अपने इतिहास को पश्चिमी इतिहासकारों की दृष्टि से पांच हजार साल के अंतराल में समेटने का प्रयास किया है....। ऐसा इसीलिए होता है कि..... आज भी हम गुलामी भरी मानसिकता से आजादी नहीं पा सके हैं ..... और, यदि किसी पश्चिमी इतिहास कार को हम अपने बोलने में या लिखने में उद्घ्रत कर दें तो यह हमारे लिये शान की बात समझी जाती है........... परन्तु, यदि हम अपने विषय में अपने ही किसी लेखक कवि या प्राचीन ग्रंथ का संदर्भ दें..... तो, रूढि़वादिता का प्रमाण माना जाता है । और.....यह सोच सिरे से ही गलत है....। इसे आप ठीक से ऐसे समझें कि.... राजस्थान के इतिहास के लिए सबसे प्रमाणित ग्रंथ कर्नल टाड का इतिहास माना जाता है.....। परन्तु.... आश्चर्य जनक रूप से .......हमने यह नही सोचा कि..... एक विदेशी व्यक्ति इतने पुराने समय में भारत में ......आकर साल, डेढ़ साल रहे और यहां का इतिहास तैयार कर दे, यह कैसे संभव है.....? विशेषत: तब....... जबकि उसके आने के समय यहां यातायात के अधिक साधन नही थे.... और , वह राजस्थानी भाषा से भी परिचित नही था....। फिर उसने ऐसी परिस्थिति में .......सिर्फ इतना काम किया कि ........जो विभिन्न रजवाड़ों के संबंध में इतिहास संबंधी पुस्तकें उपलब्ध थीं ....उन सबको संहिताबद्घ कर दिया...। इसके बाद राजकीय संरक्षण में करनल टाड की पुस्तक को प्रमाणिक माना जाने लगा.......और, यह धारणा बलवती हो गयीं कि.... राजस्थान के इतिहास पर कर्नल टाड का एकाधिकार है...। और.... ऐसी ही धारणाएं हमें अन्य क्षेत्रों में भी परेशान करती हैं....... इसीलिए.... अपने देश के इतिहास के बारे में व्याप्त भ्रांतियों का निवारण करना हमारा ध्येय होना चाहिए....। क्योंकि..... इतिहास मरे गिरे लोगों का लेखाजोखा नही है...... जैसा कि इसके विषय में माना जाता है........ बल्कि, इतिहास अतीत के गौरवमयी पृष्ठों और हमारे न्यायशील और धर्मशील राजाओं के कृत्यों का वर्णन करता है.....। इसीलिए हिन्दुओं जागो..... और , अपने गौरवशाली इतिहास को पहचानो.....! हम गौरवशाली हिन्दू सनातन धर्म का हिस्सा हैं.... और, हमें गर्व होना चाहिए कि .... हम हिन्दू हैं...!
                        Reply
                        1. J
                          Junaid Alam
                          Feb 25, 2015 at 1:00 pm
                          Why police told muslims to leave their homes ? can police not control HYV?
                          Reply
                          1. I
                            INDIAN LION
                            Feb 25, 2015 at 11:40 pm
                            You mo the rfu cker don't know any thing about Muslims, We also think how Wolf raising their voices these days ,
                            Reply
                            1. A
                              arif husain
                              Feb 25, 2015 at 5:14 pm
                              CM Yadav Ji this man Yogi is mental "ROGI" . But India knows ; this is the with whom your had given a pose as showing as "friend". He is venomous for Muslims .Should it be taken that your government has given consent for all this in Kushi Nagar; later on entire UP.? As in wake of upcoming embly election.
                              Reply
                              1. A
                                Ashok Chakrabarti
                                Feb 25, 2015 at 2:40 pm
                                Modi is NOT the PM. Adityanath is!
                                Reply
                                1. A
                                  Ashok Chakrabarti
                                  Feb 25, 2015 at 2:42 pm
                                  Modi is clearly powerless in front of these VHPs and HYVs! What a shame!! What did we do with our mother nation by making him the PM!!!
                                  Reply
                                  1. Q
                                    QAMAR AYAZ
                                    Feb 26, 2015 at 7:17 pm
                                    It is very shameful incedent, Mr akhilesh yadaav must know about truth of leaving of muslim families. CM must baned on HYV, and ragister case against aditya yogi
                                    Reply
                                    1. C
                                      Chandan Bhowmick
                                      Feb 25, 2015 at 3:01 pm
                                      SINCE UAA was ANTI HINDU and pro muslim, hindus could not raise their voicei
                                      Reply
                                      1. H
                                        hussainmm
                                        Feb 27, 2015 at 9:31 pm
                                        In my opinion, if Muslims done wrong it must be returned as an act of Justification now let us think of other side of the Coin, All Muslims proprieties taken by Government or by locals plz return it back too not only in Up but in All India, this will be real justice, be Indian and be Human.
                                        Reply
                                        1. S
                                          sekhars
                                          Feb 25, 2015 at 6:56 pm
                                          Where ever muslims live they create anarchy and fights. Look around the world. Muslims are people who do not respect any other faiths. Why these things happens where ever muslims live ? what this has to do with Yogi Adityanath ?
                                          Reply
                                          1. M
                                            Mohammad Imran
                                            Feb 26, 2015 at 11:30 am
                                            This is legal confrontation between two parties. It must be solved through court action. Adityanath has no reason to go with his Hindu Yuva Vahini (HYV) to show force and create disturbance in the village. This is another indication that Modi's speech on communal harmony has no effect on him and other Hidutvadi groups.
                                            Reply
                                            1. Load More Comments