UP to launch ‘Talk to CM’ campaign on Facebook

The campaign will run through Akhilesh’s Facebook page, which has over four lakh ‘likes’.

Lucknow | Published:February 13, 2014 12:53 am
The campaign’s punchline will be: You too can make a difference to Uttar Pradesh. Its target will be the youth active on the social networking site. The campaign’s punchline will be: You too can make a difference to Uttar Pradesh. Its target will be the youth active on the social networking site.

In order to seek suggestions from people for improving governance, Chief Minister Akhilesh Yadav is planning to launch a campaign on Facebook and has named it ‘Talk To Your CM’. 

The campaign’s punchline will be: You too can make a difference to Uttar Pradesh. Its target will be the youth active on the social networking site.

To publicise the campaign, which is Akhilesh’s brainchild, seven hoardings in Gautam Buddha Nagar have been put up with many more to come up in other major cities in the coming days, a senior official said.

Even though the advertisement contains Akhilesh’s Twitter handle, a major focus will be on campaign through Facebook. In one of the hoardings in Noida, Akhilesh promises to increase the undergraduate medical seats in the state by 500, which, the hoarding claims, became possible after reading a post from a student in Kanpur. The SP government aims to draw responses from the people in the form of what it calls “honest feedback” and then implement the ideas suggested by them.

The CM has advised officials to be prepared as he “expects that suggestions will pour in once the campaign goes live”. “Not only suggestions, we are also expecting that people will share their personal experiences with various government departments in the state. It will give us room for improvement,” the official said.

“Suggestions regarding improvement in education system and in the laptop schemes have already been taken up by the CM,” a senior official stated.

The campaign will run through Akhilesh’s Facebook page, which has over four lakh ‘likes’. The page, which discusses the government’s achie-vements contains Akhilesh’s photograph from Military School, Dholpur, Rajasthan.

For all the latest India News, download Indian Express App now

  1. N
    nageshwar patel
    Jan 15, 2017 at 5:46 am
    aap ek bar aur cm ki kman samhale ye up k bhabhisya ka sawal haiHaiti
    Reply
    1. R
      Raj
      Jan 10, 2016 at 8:42 am
      सेवा मे. ��������� माननीय मुख्यमंत्री महोदय �������������� उत्तर प्रदेश विषय,� शाश्नादेश संख्या सी.एम.400/9-अ -3-04-178 एल.ए.,� दिनांक 02-11-2004 लाल डोरा गोमतीनगर विस्तार के सम्बन्ध मे महोदय, ���������� निवेदन है की माननीय मुलायम सिंह साहब ने अपने मुख्य मंत्री काल के दौरान दिनांक 12-10-2004 को लखनऊ कर� गोमती नगर विस्तार से प्रभावित मखदूमपुर,ेशिया मऊ,गुलरीहा पुरवा,जुराखन पुरवा आदि गाँवों से सटी जमीनो और मकानों को गाँव की बढ़ी आबादी मानते हुए इन मकानों और जमीनो को सुरक्षित करने हेतु शाश्नादेश संख्या सी.एम.400/9-अ -3-04-178 एल.ए.,� दिनांक 02-11-2004 पारित किया. इस शाश्नादेस के पारित होने के बाद लखनऊ विकास प्राधिकरण ने शाश्नादेश के अनुपालन मे� इन गाँवों के चारों तरफ़ खड़ंजा लाल डोरा सीमा चिन्हान्कन� लगवा दिया और इसका प्रकाशन समाचारपत्र मे भी करवा दिया गया, माननीय नेता जी के इस आशीर्वाद के बाद अधिकतर लोगों ने अपनी जमा पूँजी लगाकर निर्माण करा लिया. सन 2008 मे मायावती सरकार ने इस शाश्नादेश को द्वेष भावना से� मानने से इनकार कर दिया गया क्योंकि ये� क्षेत्र मूलतः यादव /मुस्लिम बाहुल्य है, ब स पा सरकार ने हमारी ज़मीने हथियाने की काफी कोशिश की पर हम लोगों के प्रबल विरोध के चलते सफल नहीँ हुए हमें आशा थी की नेता जी की सरकार मे हमारे साथ न्याय होगा, सर आपकी सरकार आने पर हमारी फाइल आपके आदेश के लिये शाशन मे गयीं पर लखनऊ विकास प्राधिकरण ने माे की पैरवी नहीँ की हम लोगों से पहले तो यही बताया जाता रहा की आपकी फाइल शाशन मे है अब ये लोग सीधे मुँह बात भी नहीँ करते बाबुओं के पास जाओ तो पहले तो बात ही नहीँ करते फ़िर कुत्तों की तरह दुत्कार कर भगा देते हैं जैसे को भूखा उनकी भरी थाली से खाना माँग रहा हो. अब तो एल.डी.ए. कर्मचारियों के दुर्व्यवहार के कारण एल.डी.ए. से किसी न्याय की उम्मीद नहीँ. सर हम आपके वोटर हैं हमें आपसे ही न्याय की उम्मीद है हमारा क्षेत्र हमेशा से सपा समर्थक है सर हमारा प्रकरण शाशन मे लम्बित है जिसमे आपके हस्तक्षेप की आवश्यकता है ��������������������� सर न्याय करें हमारे पास सिर्फ आपका ही ारा है ����������������������������������������������� प्रार्थीगण ����������������������������������� स्थानीय निवासी गण
      Reply
      1. D
        Diwakarsharma
        Sep 28, 2016 at 1:08 pm
        Sir there are line man in bijli vibhag they are struggling so much.they are not government employee. sir please i request you to make them employee because they are working hard and getting 1500money only.
        Reply
        1. A
          Aasimkhan
          Sep 1, 2016 at 10:44 am
          Almost peoples facing corruption in every department because50 % peoples are uneducated. Our poor children can not go to private school because fees is very high. In government school teachers didn't study then poor children learns skill but all are illiterate .Pls help and support to establish a house where many poor children can take education on free of cost. I can't do alone nothing. Pls help and support my account no. Is 0706000100517988 and IFSC code PUNB0070600 aasimkhan pls
          Reply
          1. A
            Aasimkhan
            Sep 1, 2016 at 10:17 am
            I want to open a house where many poor children can take education on free of cost. I am facing corruption in every department because50 % peoples are uneducated. Pls give your small contribution can change the life of poor children. When peoples will speak without fear then corruption will stoped. My account no. Is 0706000100517988 and IFSC code PUNB0070600 aasimkhan pls Pls pls
            Reply
            1. A
              Aasimkhan
              Sep 1, 2016 at 10:13 am
              If in every department one team are required to watch the activities of the officers sothat corruption could be stopped
              Reply
              1. A
                Aasimkhan
                Sep 1, 2016 at 10:30 am
                Many people facing corruption in every department because50 % peoples are uneducated. Almost workers are corrupted. I can't my work in government office but a broker can do easily because money is essential first pls support and help me to establish a house where many poor children can take education on free of cost. Pls my account no. Is 0706000100517988 and IFSC code PUNB0070600 aasimkhan
                Reply
                1. S
                  satyajit
                  Mar 16, 2016 at 7:46 pm
                  My honourable chief minister Mr.Akhilesh yadav . Dear sir l want to say a few words that you are the best and the youngest chief minister of uttar Pradesh, in your four years of tenure you have done a great job of our state the Farmers,the youngster unemplo,student,collegiate etc etc. sir I am from village patkhauli dist ballia ,uttar Pradesh and l am a great fan of yours and I pray to god that the coming election our samajwadi party will win and you will again became chief minister of uttar pradesh jai hind jai bharat jai uttar Pradesh.
                  Reply
                  1. A
                    Ajeet yadav
                    Jun 16, 2016 at 7:06 pm
                    MY NAME - AJEET YADAV -8726170251lt;br/gt;I NEED LOWN STARTUP IN BISNESSlt;br/gt;CM BHAIYA ji PLEASE HELP ME
                    Reply
                    1. Y
                      Yashwant
                      Mar 23, 2016 at 2:44 am
                      माननीय नेताजी द्वारा बार-बार मंत्रियों, विधायकों के सन्दर्भ में कही गई बात कि मंत्री, विधायक एसी से बाहर निकले और जनता के बीच जुड़े। श्रीमानजी ये बयान माननीय नेताजी का बिल्कुल ी है। समाज की पढ़ी लिखी जनता तो सरकार के काम से संतुष्ट है लेकिन कम या निरक्षर जनता को इसके बारे मे जानकारी नही है उनके मन मे हमेशा-हमेशा एक बात रहती है कि हमारे मंत्री, विधायक चुनाव जीतने के बाद पांच साल तक आते ही नही है और प्रायः ऐसा होता भी है। तो श्रीमानजी से पुनः निवेदन है कि जनता के इस रोष को समझते हुए इसमे बदलाव लाए वरना इतना विकास करने के बाद भी पार्टी को नुकसान उठाना पड़ सकता है।
                      Reply
                      1. Y
                        Yashwant
                        Mar 23, 2016 at 2:19 am
                        माननीय मुख्यमंत्री जी से मेरा निवेदन है कि राज्य सरकार द्वारा गरीबो के लिए चलाई जा रही योजनाओ का क्रियान्वयन नौकरशाहो द्वारा सख्ती से पालन हो जिससे कि केवल पात्र (गरीब ) ही लाभान्वित हो जबकि देखने को मिलता है कि अपात्र (अमीर ) भी लाभ ले रहे है।
                        Reply
                        1. D
                          Deepu Kumar
                          Nov 4, 2015 at 6:32 pm
                          सर मैं आपका एक छोटा कार्यकर्ता हूँ सर मैं आपसे सिर्फ एक विनम्र निवेदन करना चाहता हूँ की सर हम आम लोगों की जरूरतें बहुत छोटी छोटी हैं पर हमारे स्थानीय नेता स्वार्थ सिध्दि मे ही लगे रहते हैं हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुँच पाती सर इसी लिये इन साधनों का प्रयोग करना पड़ता है सर बहुत सी ऐसी घोषणा हैं जो माननीय नेता जी के समय मे की गयी पर हमारे स्थानीय नेता हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुंचाते सर गोमती यादव जी ने चुनाव मे मजार पर कसम खायी थी की गोमती नगर विस्तार मे लाल डोरा शाश्नादेश बहाल करायेंगे हमारी फाइल शाशन मे है पर विधायक जी से कई वार मिले पर अब उन्हे हमारे लिये फुरसत नहीँ सर हमारा पूरा छेत्र स पा समर्थक है सर हमें सिर्फ आपका ही ारा है ब स पा शाशन मे हमारा बहुत उत्पीड़न हुआ पर हम लोगों ने अपनी ज़मीने नहीँ छोड़ी जिन्हे नेताजी ने 2005 मे शाश्नादेश से लाल डोरा द्वारा सुरक्षित कर दिया गया था सर आप स्वयं इस माे को देखेंगे तो बहुत उपकार होगा आपका कार्यकर्ता
                          Reply
                          1. D
                            Deepu Kumar
                            Nov 4, 2015 at 6:31 pm
                            सर मैं आपका एक छोटा कार्यकर्ता हूँ सर मैं आपसे सिर्फ एक विनम्र निवेदन करना चाहता हूँ की सर हम आम लोगों की जरूरतें बहुत छोटी छोटी हैं पर हमारे स्थानीय नेता स्वार्थ सिध्दि मे ही लगे रहते हैं हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुँच पाती सर इसी लिये इन साधनों का प्रयोग करना पड़ता है सर बहुत सी ऐसी घोषणा हैं जो माननीय नेता जी के समय मे की गयी पर हमारे स्थानीय नेता हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुंचाते सर गोमती यादव जी ने चुनाव मे मजार पर कसम खायी थी की गोमती नगर विस्तार मे लाल डोरा शाश्नादेश बहाल करायेंगे हमारी फाइल शाशन मे है पर विधायक जी से कई वार मिले पर अब उन्हे हमारे लिये फुरसत नहीँ सर हमारा पूरा छेत्र स पा समर्थक है सर हमें सिर्फ आपका ही ारा है ब स पा शाशन मे हमारा बहुत उत्पीड़न हुआ पर हम लोगों ने अपनी ज़मीने नहीँ छोड़ी जिन्हे नेताजी ने 2005 मे शाश्नादेश से लाल डोरा द्वारा सुरक्षित कर दिया गया था सर आप स्वयं इस माे को देखेंगे तो बहुत उपकार होगा आपके कार्यकर्ता
                            Reply
                            1. D
                              Deepu Kumar
                              Nov 4, 2015 at 6:31 pm
                              सर मैं आपका एक छोटा कार्यकर्ता हूँ सर मैं आपसे सिर्फ एक विनम्र निवेदन करना चाहता हूँ की सर हम आम लोगों की जरूरतें बहुत छोटी छोटी हैं पर हमारे स्थानीय नेता स्वार्थ सिध्दि मे ही लगे रहते हैं हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुँच पाती सर इसी लिये इन साधनों का प्रयोग करना पड़ता है सर बहुत सी ऐसी घोषणा हैं जो माननीय नेता जी के समय मे की गयी पर हमारे स्थानीय नेता हमारी आवाज़ आप तक नहीँ पहुंचाते सर गोमती यादव जी ने चुनाव मे मजार पर कसम खायी थी की गोमती नगर विस्तार मे लाल डोरा शाश्नादेश बहाल करायेंगे हमारी फाइल शाशन मे है पर विधायक जी से कई वार मिले पर अब उन्हे हमारे लिये फुरसत नहीँ सर हमारा पूरा छेत्र स पा समर्थक है सर हमें सिर्फ आपका ही ारा है ब स पा शाशन मे हमारा बहुत उत्पीड़न हुआ पर हम लोगों ने अपनी ज़मीने नहीँ छोड़ी जिन्हे नेताजी ने 2005 मे शाश्नादेश से लाल डोरा द्वारा सुरक्षित कर दिया गया था सर आप स्वयं इस माे को देखेंगे तो बहुत उपकार होगा आपके कार्यकर्ता
                              Reply
                              1. D
                                Deepu Kumar
                                Nov 15, 2015 at 10:33 am
                                सर आपको दिवाली की बहुत बहुत बधाई सर हम लोग मखदूमपुर,ेसेमऊ आदि गाँवों के निवासी हैं हम लोगों का निवेदन है की आप हमारी सुन लें.हमारे गाँवों की जमीनें L D A ने अधिग्रहीत कर लीं ऐसा लगा की हमारे परिवार के किसी सदस्य को हमसे छीन कर बेच दिया गया L D A हमारे सामने चंद ठीकरे फेंक दिये और हमारे सामने ही हमारी जमीनो को करोड़ों मे बेचा कई लोग सदमें से मर गये हम जब भी L D A गये हमारे साथ ऐसा व्यवहार किया गया जैसे किसी भरी थाली के सामने कॊई भूखा आ गया हो उस कार्यालय मे कॊई ऐसा नहीँ चपरासी से लेकर कर्मचारी तक जिसने हमसे ा व्यवहार न किया हो.साहब किसी कमजोर की ज़मीन उसके सारे जीवन की कमायी होती है जिसपे सिर्फ उसी की नहीँ पूरे परिवार की आस होती है.साहब ब स पा सरकार मे अधिकारी पूरी तरह हावी थे किसी की कॊई सुनवायी नहीँ थी.सर जिन जमीनो पर हम कभी मालिक थे उसी पर अब हमारे लोग मकानों मे इटा गारा ढोते हैं. साहब हम लोगों के जीवन मे कुछ उम्मीद की किरण आयी जब माननीय मुलायम सिंह साहब ने 2-1-2004 मे शाश्नादेश संख्या सी.एम..400/9-अ -3-04-178एल ए जारी किया और इसके द्वारा उन्होने हमारी गाँव से सटी जमीनो को गाँव की बढ़ी आबादी मान कर L D A अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया फ़िर गाँवों के चारों तरफ़ खड़ंजे लगाकर लाल डोरा निशान लगा दिया गया.फ़िर हमारा दुर्भाग्य की 2007 मे फ़िर ब स पा सरकार आगयी और उसने यादव मुस्लिम बाहुल्य इलाका होने और मुलायम साहब का आदेश होने के कारण इस शाश्नादेश को मानने से इनकार कर दिया पर हम ग्रामीणों ने ब स पा सरकार की लाल फीता शाही का विरोध किया और लाल डोरा की जमीनो पर अपना कब्जा बनाये रखा जो अभी भी हमारे कब्जे मे हैं. साहब फ़िर 2012 मे अपनी सरकार आयी और फ़िर से शाशन मे लाल डोरा बहाली की फाइल गयीं पर साहब अधिकारी तो अधिकारी अपने स्वार्थ मे इन लोगों ने फाइल दबाली और हम लोगों से यही बताते रहे की किसी अच्छे नेता से पैरवी कराओ तब शाशन मे सुनवाई होगी फ़िर अब कह रहे हैं की शाशन की कॊई इच्छा नहीँ है.साहब ये जमीनें पूरी योजना की तुलना मे कुछ नहीँ हैं पर हमारे परिवार के लिये बहुत बड़ा ारा है साहब अगर आप इस पूरे माे को नहीँ देखेंगे तो ये अधिकारी अपने स्वार्थ मे इस पूरे प्रकरण को दबाये रखेंगे हमें और किसी सरकार से कॊई उम्मीद भी नहीँ है क्योंकि ये माननीय नेता जी का आदेश था साहब हमारी मद
                                Reply
                                1. D
                                  Deepu Kumar
                                  Nov 16, 2015 at 8:27 am
                                  सर आपको दिवाली की बहुत बहुत बधाई सर हम लोग मखदूमपुर,ेसेमऊ आदि गाँवों के निवासी हैं हम लोगों का निवेदन है की आप हमारी सुन लें.हमारे गाँवों की जमीनें L D A ने अधिग्रहीत कर लीं ऐसा लगा की हमारे परिवार के किसी सदस्य को हमसे छीन कर बेच दिया गया L D A हमारे सामने चंद ठीकरे फेंक दिये और हमारे सामने ही हमारी जमीनो को करोड़ों मे बेचा कई लोग सदमें से मर गये हम जब भी L D A गये हमारे साथ ऐसा व्यवहार किया गया जैसे किसी भरी थाली के सामने कॊई भूखा आ गया हो उस कार्यालय मे कॊई ऐसा नहीँ चपरासी से लेकर कर्मचारी तक जिसने हमसे ा व्यवहार न किया हो.साहब किसी कमजोर की ज़मीन उसके सारे जीवन की कमायी होती है जिसपे सिर्फ उसी की नहीँ पूरे परिवार की आस होती है.साहब ब स पा सरकार मे अधिकारी पूरी तरह हावी थे किसी की कॊई सुनवायी नहीँ थी.सर जिन जमीनो पर हम कभी मालिक थे उसी पर अब हमारे लोग मकानों मे इटा गारा ढोते हैं. साहब हम लोगों के जीवन मे कुछ उम्मीद की किरण आयी जब माननीय मुलायम सिंह साहब ने 2-1-2004 मे शाश्नादेश संख्या सी.एम..400/9-अ -3-04-178एल ए जारी किया और इसके द्वारा उन्होने हमारी गाँव से सटी जमीनो को गाँव की बढ़ी आबादी मान कर L D A अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया फ़िर गाँवों के चारों तरफ़ खड़ंजे लगाकर लाल डोरा निशान लगा दिया गया.फ़िर हमारा दुर्भाग्य की 2007 मे फ़िर ब स पा सरकार आगयी और उसने यादव मुस्लिम बाहुल्य इलाका होने और मुलायम साहब का आदेश होने के कारण इस शाश्नादेश को मानने से इनकार कर दिया पर हम ग्रामीणों ने ब स पा सरकार की लाल फीता शाही का विरोध किया और लाल डोरा की जमीनो पर अपना कब्जा बनाये रखा जो अभी भी हमारे कब्जे मे हैं. साहब फ़िर 2012 मे अपनी सरकार आयी और फ़िर से शाशन मे लाल डोरा बहाली की फाइल गयीं पर साहब अधिकारी तो अधिकारी अपने स्वार्थ मे इन लोगों ने फाइल दबाली और हम लोगों से यही बताते रहे की किसी अच्छे नेता से पैरवी कराओ तब शाशन मे सुनवाई होगी फ़िर अब कह रहे हैं की शाशन की कॊई इच्छा नहीँ है.साहब ये जमीनें पूरी योजना की तुलना मे कुछ नहीँ हैं पर हमारे परिवार के लिये बहुत बड़ा ारा है साहब अगर आप इस पूरे माे को नहीँ देखेंगे तो ये अधिकारी अपने स्वार्थ मे इस पूरे प्रकरण को दबाये रखेंगे हमें और किसी सरकार से कॊई उम्मीद भी नहीँ है क्योंकि ये माननीय नेता जी का आदेश था साहब हमारी मदद
                                  Reply
                                  1. D
                                    Deepu Kumar
                                    Nov 17, 2015 at 1:14 pm
                                    सर हम लोग मखदूमपुर,ेसेमऊ आदि गाँवों के निवासी हैं हम लोगों का निवेदन है की आप हमारी सुन लें.हमारे गाँवों की जमीनें L D A ने अधिग्रहीत कर लीं ऐसा लगा की हमारे परिवार के किसी सदस्य को हमसे छीन कर बेच दिया गया L D A हमारे सामने चंद ठीकरे फेंक दिये और हमारे सामने ही हमारी जमीनो को करोड़ों मे बेचा कई लोग सदमें से मर गये हम जब भी L D A गये हमारे साथ ऐसा व्यवहार किया गया जैसे किसी भरी थाली के सामने कॊई भूखा आ गया हो उस कार्यालय मे कॊई ऐसा नहीँ चपरासी से लेकर कर्मचारी तक जिसने हमसे ा व्यवहार न किया हो.साहब किसी कमजोर की ज़मीन उसके सारे जीवन की कमायी होती है जिसपे सिर्फ उसी की नहीँ पूरे परिवार की आस होती है.साहब ब स पा सरकार मे अधिकारी पूरी तरह हावी थे किसी की कॊई सुनवायी नहीँ थी.सर जिन जमीनो पर हम कभी मालिक थे उसी पर अब हमारे लोग मकानों मे इटा गारा ढोते हैं. साहब हम लोगों के जीवन मे कुछ उम्मीद की किरण आयी जब माननीय मुलायम सिंह साहब ने 2-1-2004 मे शाश्नादेश संख्या सी.एम..400/9-अ -3-04-178एल ए जारी किया और इसके द्वारा उन्होने हमारी गाँव से सटी जमीनो को गाँव की बढ़ी आबादी मान कर L D A अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया फ़िर गाँवों के चारों तरफ़ खड़ंजे लगाकर लाल डोरा निशान लगा दिया गया.फ़िर हमारा दुर्भाग्य की 2007 मे फ़िर ब स पा सरकार आगयी और उसने यादव मुस्लिम बाहुल्य इलाका होने और मुलायम साहब का आदेश होने के कारण इस शाश्नादेश को मानने से इनकार कर दिया पर हम ग्रामीणों ने ब स पा सरकार की लाल फीता शाही का विरोध किया और लाल डोरा की जमीनो पर अपना कब्जा बनाये रखा जो अभी भी हमारे कब्जे मे हैं. साहब फ़िर 2012 मे अपनी सरकार आयी और फ़िर से शाशन मे लाल डोरा बहाली की फाइल गयीं पर साहब अधिकारी तो अधिकारी अपने स्वार्थ मे इन लोगों ने फाइल दबाली और हम लोगों से यही बताते रहे की किसी अच्छे नेता से पैरवी कराओ तब शाशन मे सुनवाई होगी फ़िर अब कह रहे हैं की शाशन की कॊई इच्छा नहीँ है.साहब ये जमीनें पूरी योजना की तुलना मे कुछ नहीँ हैं पर हमारे परिवार के लिये बहुत बड़ा ारा है साहब अगर आप इस पूरे माे को नहीँ देखेंगे तो ये अधिकारी अपने स्वार्थ मे इस पूरे प्रकरण को दबाये रखेंगे हमें और किसी सरकार से कॊई उम्मीद भी नहीँ है क्योंकि ये माननीय नेता जी का आदेश था साहब हमारी मदद करें दया होगी
                                    Reply
                                    1. D
                                      drona
                                      Dec 18, 2015 at 2:49 am
                                      सर हम लोग मखदूमपुर,ेसेमऊ आदि गाँवों के निवासी हैं हम लोगों का निवेदन है की आप हमारी सुन लें.हमारे गाँवों की जमीनें L D A ने अधिग्रहीत कर लीं ऐसा लगा की हमारे परिवार के किसी सदस्य को हमसे छीन कर बेच दिया गया L D A हमारे सामने चंद ठीकरे फेंक दिये और हमारे सामने ही हमारी जमीनो को करोड़ों मे बेचा कई लोग सदमें से मर गये हम जब भी L D A गये हमारे साथ ऐसा व्यवहार किया गया जैसे किसी भरी थाली के सामने कॊई भूखा आ गया हो उस कार्यालय मे कॊई ऐसा नहीँ चपरासी से लेकर कर्मचारी तक जिसने हमसे ा व्यवहार न किया हो.साहब किसी कमजोर की ज़मीन उसके सारे जीवन की कमायी होती है जिसपे सिर्फ उसी की नहीँ पूरे परिवार की आस होती है.साहब ब स पा सरकार मे अधिकारी पूरी तरह हावी थे किसी की कॊई सुनवायी नहीँ थी.सर जिन जमीनो पर हम कभी मालिक थे उसी पर अब हमारे लोग मकानों मे इटा गारा ढोते हैं. साहब हम लोगों के जीवन मे कुछ उम्मीद की किरण आयी जब माननीय मुलायम सिंह साहब ने 2-1-2004 मे शाश्नादेश संख्या सी.एम..400/9-अ -3-04-178एल ए जारी किया और इसके द्वारा उन्होने हमारी गाँव से सटी जमीनो को गाँव की बढ़ी आबादी मान कर L D A अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया फ़िर गाँवों के चारों तरफ़ खड़ंजे लगाकर लाल डोरा निशान लगा दिया गया.फ़िर हमारा दुर्भाग्य की 2007 मे फ़िर ब स पा सरकार आगयी और उसने यादव मुस्लिम बाहुल्य इलाका होने और मुलायम साहब का आदेश होने के कारण इस शाश्नादेश को मानने से इनकार कर दिया पर हम ग्रामीणों ने ब स पा सरकार की लाल फीता शाही का विरोध किया और लाल डोरा की जमीनो पर अपना कब्जा बनाये रखा जो अभी भी हमारे कब्जे मे हैं. साहब फ़िर 2012 मे अपनी सरकार आयी और फ़िर से शाशन मे लाल डोरा बहाली की फाइल गयीं पर साहब अधिकारी तो अधिकारी अपने स्वार्थ मे इन लोगों ने फाइल दबाली और हम लोगों से यही बताते रहे की किसी अच्छे नेता से पैरवी कराओ तब शाशन मे सुनवाई होगी फ़िर अब कह रहे हैं की शाशन की कॊई इच्छा नहीँ है.साहब ये जमीनें पूरी योजना की तुलना मे कुछ नहीँ हैं पर हमारे परिवार के लिये बहुत बड़ा ारा है साहब अगर आप इस पूरे माे को नहीँ देखेंगे तो ये अधिकारी अपने स्वार्थ मे इस पूरे प्रकरण को दबाये रखेंगे हमें और किसी सरकार से कॊई उम्मीद भी नहीँ है क्योंकि ये माननीय नेता जी का आदेश था साहब हमारी मदद करें दया होगी
                                      Reply
                                      1. J
                                        JAGROOP SINGH
                                        Oct 31, 2015 at 3:23 pm
                                        Hon,ble Sir, As per time needs, a practical education system according job ability within India includes technical knowledge and respect to elder of countries, as per interest of child is more preferable than of those of old one. It will be left more effect than that of exists one in system. Our villages (make a group of 30 villages) are not planned with such under education, according to their wealth under one roof according jobs opportunity, and take of jobs other state or Nations, under contract basis for improving wealth of the people as well as the state income. This type of education can put more effect in future. Each person has gifted by the nature a special quality. On basic of this, our Govt can calculate the needs and demand in form of policy. At present, exit one education system, it is not promoting of type of jobs except Engineers, Doctors and IAS. Society expectation for better life are arose in every field according wealth. So, service of that level is also required. Young youth can fill the gaps between higher wealth and lower wealth after putting hard work in different fields in future.
                                        Reply
                                        1. P
                                          Prerana
                                          Oct 29, 2015 at 2:33 pm
                                          Respected sir, my sister is missing from her husband's house noyda . Noyda police has not help us . Please sir help us.
                                          Reply
                                          1. S
                                            suman chaudhary
                                            Jun 30, 2015 at 3:03 pm
                                            Akhilesh bhaiya aapko handicapped logo ko.jarur naukri de dijiye kyoki handicaped logo.ko bhut dukh jhelna padta hai form bharne ke liye paise nhi hote hai samaj aur ghar tana martr hai aapko plz hm.logo.job dena chahiye.
                                            Reply
                                            1. Load More Comments